Main Article Content

Abstract

प्रत्येक प्राणी मुक्ति अथवा मोक्ष प्राप्ति की इच्छा रखता है। लेकिन यथार्थ ज्ञान के अभाव में लक्ष्य प्राप्ति नहीं कर पाता है। यथार्थ ज्ञान क्या हैघ् आत्मा क्या हैघ् आत्मा व जगत् का प्रज्ञान कैसे सम्भव हैघ् ज्ञान कैसे प्राप्त होघ् वास्तविक ज्ञान कैसे प्राप्त किया जा सकता हैघ् आदि रहस्यमयी ज्ञान को लेख में समझाने का प्रयास किया है। अज्ञानता दूर करने हेतु दृष्टान्तोंए उदाहरणों आदि का विशेष सहयोग लेकर ज्ञान की सार्थकता को सिद्ध किया है। ज्ञान के माध्यम से आत्मजागरणए आत्मा व जगत् का प्रज्ञान प्रस्तुत किया है।

Article Details