Main Article Content

Abstract

गैर सरकारी संगठनो एवं स्वैच्छिक संस्थाओ को लोकतंत्र का पाँचवा स्तम्भ कहा जाता है। उल्लेख है कि तीन स्तम्भ विधायिकए कार्यपालिकाए एवं न्यायपालिका है जबकि मीडीया को लोकतंत्र का चैथा स्तम्भ माना जाता है। गैर सरकारी संगठन ऐसे पंजीकृत संगठन होते हैं जो सरकार से स्वतंत्र काम करते है ये स्वेच्छिक संस्थाएं लोक हित के उद्देश्य से गैर.लाभकारी कार्यो में संलग्न रहती है। सुलभ इंटरनेशनल द्वारा शौचालय का निर्माण एवं संचालन का प्रयोग भी देश के विभिन्न भागो में काफी सफल रहा है। बिन्देश्वरी पाठक द्वारा सुलभ शौचालय के माध्यम से दैनिक जीवन की एक महत्वपूर्ण सुविधा का विकास गया है। रेड क्रास सोसायटी ने चिकित्सा के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान किया है। और कम लागत पर जरूरतमंदो की चिकित्सा की आधुनिक सुविधाएँ उपलब्ध कराई है बायफ संस्था ने कुछ क्षेत्रो में रोजगार की दृष्टि से लोगो को आत्मनिर्भर बनाने के लिए कृषि का विकास किया है।

Article Details