Main Article Content

Abstract

भारत देश में भ्रष्टाचार चर्चा का एक प्रमुख विषय रहा है। भ्रष्टाचार जिस किसी क्षेत्र में व्याप्त हो, वह उस क्षेत्र तथा संबंधित व्यक्ति की सकारात्मक छवि पर कलंक लगाता है। देश के गाँवों से महानगर तक सभी स्थानों पर भ्रष्टाचार की घटनाएँ देखने व सुनने को मिलती हैं। भ्रष्टाचार की समस्या उस समय और भी अधिक जटिल हो जाती है, जब नौकरशाही के उच्च अधिकारी अथवा कानून के रक्षक स्वयं ही भ्रष्टाचार में लिप्त पाए जाते हैं। भारत देश मंे भष््रटाचार की जड़ें बहुत ही गहरी हो चुकी हैं। हमारे देश में सार्वजनिक जीवन में भ्रष्टाचार लगातार बढ़ रहा है। समाज में विभिन्न स्तरों पर फैले भ्रष्टाचार को रोकने के लिए कठोर दंड की व्यवस्था की जानी चाहिए। महाराष्ट्र प्रदेश सरकार ने राज्य में भ्रष्टाचार रोकने के लिए लोकायुक्त संगठन की स्थापना की है। महाराष्ट्र का लोकायुक्त संगठन प्रदेश में व्याप्त भ्रष्टाचार को समाप्त करने की दिशा में लगातार प्रयास कर रह है। प्रस्तुत अध्ययन के अंतर्गत भ्रष्टाचार के नियंत्रित करने में लोकायुक्त संगठन की भूमिका का मूल्यांकन करने का प्रयास किया गया है।

Article Details