Main Article Content

Abstract

प्रस्तुत शोध्-पत्रा में पफसल गहनता का सूक्ष्म स्तर पर अध्ययन करने के लिए नवादा जिला को एक प्रतीक अध्ययन क्षेत्रा के रूप मंे चुना गया है। यह दक्षिण गंगा के विशाल मैदान का एक अभिन्न अंग है। जनसंख्या का सकेन्द्रण इस क्षेत्रा में अध्कि है, अतः इनके भरण-पोषण हेतु यहाँ पर खाद्यान्न पफसलों की गहन कृषि की जाती है। अध्ययन के समय कुल कृषि क्षेत्रा के लगभग 64.52 प्रतिशत भाग पर वर्ष मंे दो बार या इससे अध्कि पफसलें उत्पादित की जाती है। शेष कृषि क्षेत्रा एक पफसली क्षेत्रा के अंतर्गत आता है, जिन क्षेत्रों में सिंचन सुविधएँ सुलभ नहीं है तथा कृषि विकास हेतु नवीन कृषि साध्नों का अल्प विकास हुआ है, वहाँ पर प्रकृति पर आधरित कृषि की जाती है।

Article Details