Main Article Content

Abstract

मानवाधिकारों की आधारशिला मानव मूल्यों पर टिकी है।  मानव से ही मानवाधिकारों का आरंभ होता है।  मानवाधिकार मनुष्य के जीवन और विकास के लिए आधारभूत तत्व होता है।  मानवाधिकार को सरल रूप से परिभाषित करते हुए मोती लाला जोशी कहते हैं.श् मानवाधिकार शब्द दो शब्द के मेल से बना है।  जिसका अर्थ है. मनावों के अधिकार अर्थात् राष्ट्र में जो व्यक्ति निवास करता है उस राष्ट्र द्वारा उसे कुछ मौलिक अधिकार प्रदान किये जाते हैंए जिनके संरक्षण में व्यक्ति निर्भय होकर अपना जीवन यापन कर सकता है।श् ;मोतीलाल जोशीए मानवाधिकार और शिक्षाए पृण् 76द्ध मानवाधिकार राज्य द्वारा हरेक नागरिक के उपलब्ध कराने वाला वह अधिकार हैए जो बिना किसी भेद.भाव से सब को मिलना चाहिए।

Article Details