Main Article Content

Abstract

गुलज़ार ;1936द्ध और भूपेन हाजरिका ;1926.2011द्ध क्रमशः हिंदी तथा असमीया संगीत जगत के प्रमुख हस्ताक्षर हैं । दोनों ही अपनी.अपनी भाषा तथा क्षेत्रों में एक सफल गीतकारए कविए फिल्म निर्माता आदि रहे हैं । गुलज़ार और भूपेन हाजरिका भिन्न भाषा एवं प्रांत के होने के बावजूद भी दोनों के गीतों में एक जैसे विषय पाये जाते हैं । प्रेम भी एक ऐसा ही विषय हैए जिस पर दोनों गीतकारों ने खुलकर गीत लिखे हैं । यहाँ प्रेम से केवल प्रणय.प्रेम  का ही बोध नहीं कराया गया हैए बल्कि उसके साथ.साथ मानव.प्रेमए देश.प्रेमए जाति.प्रेम आदि का भी चित्रण उन्के गियों में मिलता है । प्रस्तुत शोध.पत्र में हम गुलज़ार और भूपेन हाजरिका के गीतों में प्रतिफलित प्रेम.भावना पर चर्चा करेंगे । 

Article Details