Main Article Content

Abstract

सामाजिक न्याय को स्थापित करने के उद्देश्य से ही विभिन्न सरकारों की तरफ से सामाजिक सुरक्षा कार्यक्रमों का संचालन भी होता रहा है और भारत ही नहीं वरन् विश्वस्तर पर भी इस हेतु निरन्तर प्रयास होता रहा हैं भारत में भी इस सामाजिक सुरक्षा के निमित्त कार्य किया जाता रहा है सामाजिक सुरक्षा का लक्ष्य उन लोगों को जीविका उपलब्ध कराता है जो काम नहीं कर सकते और स्थायी या गंभीर कारणों की वजह से अपनी आजीविका जुटाने में सक्षम नहीं है। अत्यधिक विकसित देशों ;एमडीसीद्ध में राज्य द्वारा सामाजिक सुरक्षा का प्रावधान जीवनयापन से जुड़े मानकों का एक स्वाभाविक हिस्सा है।1 सामाजिक सुरक्षा की विचार धारा एक व्यापक विचार धारा है जिसमें सामाजिक न्याय के दार्शनिक पक्ष निहित हैं। सामाजिक सुरक्षा जनता के कल्याण को बढ़ावा देने के लिए सरकार द्वारा शुरू किये गये कार्यक्रम होते हैं। इस प्रकार सामाजिक सुरक्षा का उद्देश्य बच्चोंए वृद्धों और निशक्तजनों जैसे संवेदनशील लोगों की विभिन्न प्रकार की सहायता और संसाधन उपलब्ध कराना है जिससे कि उनके जीवन की गुणवत्ता में सुधार किया जा सके। भारत में सामाजिक बीमाए राष्ट्रीय भविष्य निधि एवं सामाजिक सहायताए नियोक्ता की जवाबदेही योजनाए सार्वभौमिक सामाजिक सुरक्षा बीमा कहा जाता है।

Article Details