“विद्यालय परिवेश का विभिन्न आयु वर्ग के विद्यार्थियों की वृद्धि कुशाग्रता स्तर पर पड़ने वाले प्रभाव का अध्ययन”

  • डॉ.प्रमिला दुबे
  • निकिता गर्ग

Abstract

            [ विद्यालय ज्ञान प्राप्ति का मंदिर है प्रत्येक व्यक्ति को शिक्षा प्राप्त करने के लिए विद्यालय जाना ही पड़ता है विद्यालय में विद्यार्थी का शारीरिक, बौद्धिक, सामाजिक विकास होता है । विद्यालय का वातावरण विद्यार्थियों की सीखने की क्षमता को प्रभावित करता है प्रत्येक विद्यालय के विभिन्न कक्षाओं में विभिन्न आयु वर्ग के विद्यार्थी होते हैं । इन विद्यार्थियों के बुद्धि कुशाग्रता स्तर को ज्ञात करने के लिए तथा विद्यालय परिवेश का अभाव प्रभाव देखने लिए प्रस्तुत शोध किया गया है प्रस्तुत शोध में प्रदत्त संकलन के लिए सरकारी व निजी विद्यालयों का चयन किया है । सर्वेक्षण विधि का प्रयोग करते हुए तथा एस.एम.मोहिसिनका प्रमापीकृतउपकरण द्वारा प्रदत एकत्र किए गए । प्रस्तुत शोध में मध्यमान,प्रमाप विचलन,टी-परीक्षण सांख्यिकी का प्रयोग किया गया है । प्रस्तुत शोध का लाभ विद्यार्थियों को मिलेगा । ]

Published
2020-02-11