Main Article Content

Abstract

भारत.पाक विभाजन का असर भारतीय समाज व् साहित्य पर पड़ा। भारत. पाक विभाजन के परिणामस्वरूप देश भर में सांप्रदायिक दंगे हुए। भारत को आज़ाद कराने के लिए भारतीय हिन्दू.मुस्लिम समाज ने राष्ट्रीय एकता का परिचय देते हुएए इस देश को आज़ाद कराया। उसी देश में आज़ादी के बाद दोनों धर्म के बीच हुए सांप्रदायिक दंगों ने बरसों की राष्ट्रीय एकता व् भाईचारे को गहरा आघात पहुँचाया। विभाजन और इन सांप्रदायिक दंगों का भारतीय साहित्य पर भी व्यापक प्रभाव पड़ा। हिंदी साहित्य में कथाकारों ने अपने कथा साहित्य के माध्यम से इसका चित्रण किया है। नासिरा शर्मा हिंदी की प्रख्यात साहित्यकार हैंए इनकी कहानियों में भी सांप्रदायिक दंगों व सांप्रदायिक सद्भावना का चित्रण दिखाई पड़ता है।  

Article Details